Bal Narendra PDF Download in Hindi

Bal Narendra PDF Download

Bal Narendra PDF Download – हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी के जीवन पर तो कई फिल्में डॉक्यूमेंट्री और कई किताबें लिखी जा चुकी है। यह बात मोदी जी खुद भी कई बार स्वीकार चुके हैं कि उनका बचपन बड़ा ही संघर्षों में बीता है और वह बड़े ही संघर्षों और मेहनत के बाद आज इस मुकाम पर पहुंचे हैं। दोस्तो आज के इस लेख में हम नरेंद्र मोदी जी के बचपन की कहानियों को बिल्कुल शत प्रतिशत सच दिखाने वाली एक पुस्तक जिसका नाम है ‘ बाल नरेंद्र ‘ के बारे में जानेंगे।

इस पुस्तक की बहुत ही कम कॉपियां बाजार में उपलब्ध है क्योंकि बहुत सारे लोगों को इस पुस्तक के बारे में पता ही नहीं है। इस पुस्तक को वर्ष 2014 में प्रकाशित किया गया था। यह पुस्तक हिंदी भाषा में लिखा गया है लेकिन आज तक इस पुस्तक के लेखक का नाम किसी को मालूम नहीं है क्योंकि इंटरनेट पर इस पुस्तक के लेखक का नाम उपलब्ध ही नहीं है। दोस्तों यदि आप नरेंद्र मोदी के बचपन के जीवन के बारे में जानना चाहते हैं तो यह पुस्तक आपको काफी पसंद आएगा। इस पुस्तक से आपको काफी प्रेरणा मिलेगी और काफी कुछ सीखने को भी मिलेगा। आज के इस लेख के माध्यम से हम Bal Narendra PDF Download के बारे में जानेंगे और हम आपको इस पुस्तक की पीडीएफ की लिंक भी देंगे जिसके जरिए आप इस पुस्तक को डाउनलोड करके पूरा पढ़ सकेंगे। तो दोस्त बने रहिए अंत तक हमारे इस लेख के साथ।

Bal Narendra PDF Download in Hindi

Book Name                Bal Narendra PDF Download 
Author                  Not Known
         Language       Hindi
Year      Not Know
Downloads             6537 downloads 

इस पुस्तक की शुरुआत में गुजरात के वार्ड नगर जगह के बारे में बताया गया है जिसमें कहा गया है कि इस जगह का बहुत ही ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व भी है। यहां के पूर्वज अपनी बहादुरी के लिए जाने जाते थे और इतिहास में उन्होंने अपनी बहादुरी का परिचय कई बार दिया है। आगे बताया गया है कि यहां के लोग पांडवों के साथ मिलकर युद्ध लड़े थे और यह छोटा सा जगह अपने सांस्कृतिक कार्यक्रम और सात्विक भोजन के लिए जाना जाता है।

इसी गांव में एक परिवार रहता था जो अपने जीवन व्यतीत करने के लिए कड़ी मेहनत करता था। 14 सितंबर 1950 को दामोदरदास और हीरा बहन के घर पुत्र का जन्म होता है। उन्होंने अपने बेटे का नाम रखा नरेंद्र जिसका अर्थ होता है भगवान का दूत। नरेंद्र जैसे-जैसे बड़ा हो रहा था अपने भाइयों और अपने परिवार में प्यार दुलार से रहता था। बचपन से ही नरेंद्र काफी मेहनती और पढ़ाई में मन लगाकर पढ़ने वाला विद्यार्थी था। स्कूल से आने के बाद नरेंद्र अपने पिता के साथ भी काम में हाथ बताता था और उनकी मदद करता है। नरेंद्र के पिता वार्ड नगर के रेलवे स्टेशन में चाय की रेडी लगाते थे स्कूल से आने के बाद नरेंद्र भी अपने पिता के साथ इसी रेलवे स्टेशन में चाय बेचा करता था।

नरेंद्र का व्यवहार बहुत ही अच्छा था जिस कारण स्कूल में उनके बहुत सारे दोस्त थे और स्कूल के बाहर भी बहुत दोस्त हैं जो हमेशा मुश्किल समय में नरेंद्र की मदद के लिए तैयार रहते थे। जैसे-जैसे नरेंद्र की उम्र बढ़ रही थी उसकी समझदारी भी दुगनी हो रही थी और वह बहुत ही कम उम्र में बहुत ज्यादा समझदार होने लगा था। नरेंद्र को बचपन से ही पढ़ने का बहुत शौक था वह अपने पाठ्य की पुस्तके के अलावा भी बहुत सारी अलग-अलग पुस्तकों को पढ़ने में रुचि रखता था और समय मिलने पर वह पास के लाइब्रेरी में जाकर पुस्तके पढ़ा करता था। नरेंद्र को बहुत सारे अलग विषयों पर पुस्तकें पढ़ना बहुत अच्छा लगता था जैसे कि काल्पनिक कथा जीवन कथा आत्मकथा इस प्रकार की पुस्तकें उनकी बहुत ही पसंदीदा थी। नरेंद्र को पुस्तकों में रुचि होने के कारण वह बचपन से स्वामी विवेकानंद की ओर ज्यादा आकर्षित होने लगे और उनके जीवन के बारे में खूब पढ़ने लगे जिस कारण उनके जीवन पर भी इसका काफी गहरा प्रभाव पड़ा और वह स्वामी विवेकानंद के पथ पर चलने लगे। नरेंद्र स्वामी विवेकानंद को अपने आदर्श के रूप में मानते थे और उनके द्वारा बताए गए सभी बातों को बचपन से ही फॉलो करते थे। पढ़ाई के साथ-साथ नरेंद्र बाकी कामों में भी बहुत होशियार थे स्कूल से आने के बाद वह अपने मां की भी मदद किया करते थे अपने बहनों और भाइयों का भी ख्याल रखा करते थे।

Conclusion

आज के इस लेख के माध्यम से हमने आपको नरेंद्र मोदी जी के बचपन पर लिखी गई पुस्तक बाल नरेंद्र के बारे में बताया। इस पुस्तक में नरेंद्र मोदी के बचपन के जीवन को बहुत ही अच्छे तरीके से बताया गया है। यदि आप भी इस पुस्तक को पूरा करना चाहते हैं तो हमारे द्वारा दी गई लिंक के जरिए आप इस पुस्तक की पीडीएफ को डाउनलोड करके से पूरा पढ़ सकेंगे।

दोस्तों हमें पूरी उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख जरूर पसंद आया होगा यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करें एवं कमेंट में अपना विचार अवश्य दें।

धन्यवाद

Leave a Comment